Home / Question Answer With baba ji / Solan Question and Answer in Hindi

Solan Question and Answer in Hindi

सोलन सवाल – जवाब
लड़की – बाबा जी मुझे 6 महीने हो गए हैं काफी बीमार चल रही हूं और पढ़ाई भी नि कर पा रही हू। मेरे पेरेन्ट्स को सारा दिन मेरा ध्यान रखना पड़ता है । कई बार सोचती हूँ कि मैं उनकी भी सेवा खराब कर रही हु ओर सारा दिन उनको मेरे उप्पर रहना पड़ता है ?
बाबा जी – नहीं बेटा ऐसा बिल्कुल भी नहीं सोचना दुख तकलीफे तो जिंदगी में आती रहती है हमें कभी भी घबराना नहीं चाइए । ओर माता पिता कभी भी अपने बच्चो का बुरा नहीं चाहते । कोई ना बेटा मालिक पर भरोसा रखो जरूर ठीक हो जाओगे ।
लड़की :- बाबा जी हम अपने माता पिता को कैसे खुश कर सकते हैं ?
बाबा जी :- अपने पैरों पर खड़े होकर । देखो बेटा हम कभी भी अपने माता पिता के कर्ज को चुका नहीं सकते लेकिन अपने पैरों पर खड़े होकर एक सच्ची खुसी जरूर हम उनको दे सकते हैं ।
व्यक्ति :- राधा स्वामी सच्चे पातसाह । बड़े महाराज जी से नामदान लिया हुआ है लेकिन जब भजन पर बैठता हु तो आपके ओर महाराज जी के दोनों स्वरूप सामने आ जाते हैं ऐसा क्यों बाबा जी ?
बाबा जी :- देखो बेटा दोनों स्वरुप इसलिए सामने आ रहे हैं क्यूंकि अभी हमारा मन एक जगह स्थिर नहीं है । एक स्वरूप तो जिनसे हमारा अत्यधिक लगाव होता है वो आता है और दूसरा जिनसे हमने नाम लिया हुआ है । लेकिन हमें दर्शन सिर्फ उसी स्वरुप के करने है जिनसे नामदान लिया हुआ है ।

लड़की :- ?बाबा जी क्या आप मुझसे नराज है ?
बाबा जी :- नहीं बेटा। गुरु तो एक सीसे की तरह होता है जब आप दुख में होते हो तो लगता है वो हमसे नराज है और सुख आता है तो लगता है वो हमसे खुश हैं ।
लड़का :- बाबा जी मुझे आपका गार्ड बनना है ☺️
बाबा जी :- तो बेटा पहले पुलिस फोर्स जॉइन करो ।
लड़की :- बाबा जी 3 4 साल हो गए हैं अब आप शिमला क्यों नही आते हैं ?
बाबा जी :- देखो बेटा वहाँ थोड़ी जगह की कमी है और ट्रैफिक जाम भी हो जाता है जिस से संगत को तकलीफ होती है इसलिए सोलन तो कोई दूर नी है बेटा आप यहाँ 1 घण्टे में आ सकते हैं और यहाँ सभी संगत को कोई परेशानी भी नहीं होती । इसलिए हमें तो ऐसा काम करना चाहिए जिस से किसी को कोई दुख तकलीफ ना हो ।
लड़की :- बाबा जी मुझे गुस्सा बहुत जल्दी आ जाता है और कई बार मैं अपनी मम्मी के सामने भी बोल जाती हूं ?
बाबा जी :- गलत बात है ये बेटा हमें कभी भी किसी के सामने नही बोलना चाहिए । वो हमारे अच्छे के लिए सोचते है
गुरू प्यारी साध संगत जी सभी सतसंगी भाई बहनों और दोस्तों को हाथ जोड़ कर प्यार भरी राधा सवामी जी…

error: Content is protected !!