Home / Question Answer With baba ji / सवाल जवाब मुम्बई 28 दिसम्बर 2017

सवाल जवाब मुम्बई 28 दिसम्बर 2017

*सवाल जवाब मुम्बई*
*28 दिसम्बर 2017*
1 – बाबा जी हम लोग डोमिनोस और कुछ ऐसे जगह खाते है जहाँ नॉनवेज बनता है तो क्या इसमे हमारे कर्म बनेंगे?
*बेटा- पहली बात इन सब चीजों से थोड़ा इतियाद बरतें क्योंकि कर्मो का हिसाब तो किसी और ने नही देना हमें ही देना है और कर्म इसमें बनते है।*
2 – बाबा जी जब मैं बड़ी होंगी तो मुझे इतनी शक्ति देना की मैं ढाई घंटे भजन के बैठ पाउ।तब मुझे नाम की बकसीस करना।?
*बेटा जी यहां इतने लोग नाम लिए हुवे है इनसे पूछो कौन ढाई घंटे बैठता है( संगत को तरफ देखते हुवे)*
*लो भाई हाथ ऊपर करो कौन बैठता है (किसी संगत ने हाथ ऊपर नही किया)*
3 – बाबा जी तकलीफ बहुत है लाइफ में मैँ नही बैठ पाती सिमरन में जब भी बैठती हूँ ध्यान नही लगता मुझे लगता है कि मैं जब बैठी तो मालिक का ख्याल तो नही आया बल्किन सारी परेशानी सामने आकर खड़ी हो गई। ( क्या करूँ बाबा जी)? ? )
*बेटा बीमार व्यक्ति ही डॉ पास ज्यादा जाता है उसके कहे नियमों का पालन करता है और अगर वो ना जाये तो ठीक कैंसे हो पायेगा। वैसे ही हमे तो बेटा दुख तकलीफ में तो मालिक को और भी ज्यादा याद करना चाहिए हम उसी को छोड़ कर बैंठ जाते है हमें तो पहले से ज्यादा वक्त मालिक के लिए देना है और कोशिश करना है बहाना नहीं बनना बेटा वो मालिक की जिम्मेदारी है हम इतने लाचार है कि हम सिर्फ बैंठ सकते हैं बाकी सब वो करेगा। हुजूर कहा करते थे मन लगे न लगे बैंठना जरूर है बाकी सब वो आप करेगा*
4 – बाबा जी सब कहते है ये पागल है बार बार सत्संग में जाते है आप भी कहते है कि जो मिलेगा अंदर ही मिलेगा?

*बेटा पढ़ाई घर मे भी करनी होती है पर क्या बच्चा स्कूल जाना छोंड दे। आप अपने बच्चे के सारी जरुरूतो का सामान लेकर रख दो और उसे कहो स्कूल जाने की जरुरूत नही घर मे ही बैठ कर पढ़ो ।बच्चा पढ़ नहीं पायेगा। बेटा चरणों की धूल संतो की पैरों में नही होती है “तीसरे तील” यहां दोनो आंखों के बीच मे होती है। और सत्संगों में आकर हमें पता चलता है कि हमे करना क्या है।और चार लोग भूरा कहे तो फिकर करने की जरुवत नही क्योंकि बेटा हर इंसान की अपनी सोच है आप अपने ऊपर सोचे कि आपको क्या अच्छा लगता है मालिक की याद में एक पल भी फिजूल नही जाता सब का फल मिलता है। बस कोशिश यही होनी चाहिए सत्संग – सेवा – सिमरन न कभी छुटे।*
5 – बाबा जी सेवादार हेंड Hahd हँस कर बात नहीं करते क्यों?
*बाबा जी ने लेफ्ट में बैठे सेक्यूरिटी हेंड कुक्कू साहब को देखा और कहा क्यों कुक्कू हँस कर क्यों बात नही करता अच्छा एक्चुली में बहन जी कुक्कू सबेरे पेस्ट कर के नहीं आता इसी लिये अपने दांत नही दिखाता।*
*(संगत सब हस पढ़ी।)*
फिर उस बहन जी ने कहा नही बाबा जी सेक्यूरिटी Hahd कुक्क साहब से मैँ मिली हूँ वो हँस कर ही बात करतें है।
*बेटा उसकी बीबी उधर होती है लेंडिस तरफ़ और लेडिसों तरफ ही हँस कर बात करता है खाश कर स्मार्ट हो तो,*
*और संगत और बाबा जी हसे मुस्कराए और राधास्वामी बोल कर स्टेज से चल दिये।।*

error: Content is protected !!