एक राजा रहता था achi story

किसी नगर में एक राजा रहता था, उस नगर में जब कोई संन्यासी आता तो राजा उसे बुलाकर पूछता कि- ”भगवान! गृहस्थ बड़ा है या संन्यास?” 🔵 अनेक साधु अनेक प्रकार से इसको उत्तर देते थे। कई संन्यासी को बड़ा तो बताते पर यदि वे अपना कथन सिद्ध न कर ...

Read More »

जो हाथ से चला गया par Story

जो हाथ से चला गया उसका दुख क्या करना! एक आदमी तड़के नदी की ओर जाल लेकर जा रहा था। नदी के पास पहुंचने पर उसे आभास हुआ कि सूर्य अभी पूरी तरह बाहर नहीं निकला हैं। घने अंधेरे में वह मस्ती से टहलने लगा। तभी उसका पैर झोले से ...

Read More »

Bahut he achi lines read and share

कदम रुक गए जब पहुंचे हम “रिश्तो” के बाज़ार में.. ✳बिक रहे थे रिश्ते, खुले आम व्यापार में.. ✳कांपते होठों से मैंने पूँछा, “क्या “भाव’ है भाई इन रिश्तों का..?” ✳ दुकानदार बोला:- ✳ “कौन सा लोगे..? ✳ बेटे का ..या बाप का..? ✳ बहिन का..या भाई का..? ✳ बोलो ...

Read More »

भगवान का पुत्र

भगवान का पुत्रः 🔵 मैं तुमसे कहता हूँ, अपने जीवन की चिन्ता न करो, मत सोचो कि तुम क्या खाओगे और क्या पियोगे? मत सोचो कि तुम अपने शरीर पर क्या पहनोगे। क्या जीवन भोजन से अधिक नहीं है? क्या शरीर वसन से अधिक नहीं है? 🔴 अरे, इन हवा ...

Read More »

Ek family ki bahut achi story

एक पति-पत्नी में तकरार हो गयी —पति कह रहा था : “मैं नवाब हूँ इस शहर का लोग इसलिए मेरी इज्जत करते है और तुम्हारी इज्जत मेरी वजह से है।” पत्नी कह रही थी : “आपकी इज्जत मेरी वजह से है। मैं चाहूँ तो आपकी इज्जत एक मिनट में बिगाड़ ...

Read More »

Kal baba ji satsang sunai

Kal baba ji ne Guru Ghar ki bani li Har ki Pooja Dulam Hai Santo par 1:30 hour satsang Kiya aap Jante ho ki continue bolna Kitna mushkil Hota Hai Lekin gale mein problem hone par bhi satsang Kiya 1 . parmatma Ek Hai bhagti us Ek ki karni Hai ...

Read More »

जब भी आप सत्संग सुनकर बाहर आते हो

जब भी आप सत्संग सुनकर बाहर आते हो तो कुछ समय के लिए सिर्फ गुरु का ही ध्यान करें हो सके तो किसी से भी बात न करें। क्योंकि जब भी आप सत्संग सुनकर बाहर निकलते हो तब आपमें एक energy होती है। एक ऊर्जा होती है जो आपमें Save ...

Read More »

मेहनत का फल का महत्व |

मेहनत का फल का महत्व | एक नगर में प्रतिष्ठित व्यापारी रहते थे जिन्हें बहुत समय बाद एक पुत्र की प्राप्ति हुई थी.उसका नाम चंद्रकांत रखा गया. चंद्रकांत घर में सभी का दुलारा था. अतिकठिनाई एवं लंबे समय इंतजार के बाद संतान का सुख मिलने पर, घर के प्रत्येक व्यक्ति ...

Read More »
error: Content is protected !!