Home / Sakhi (page 5)

Sakhi

Baba ji ek baar Raja aur vajirr ki Sakhi sunai

radhasoami baba ji in village

एक समय की बात है राजा का एक वजीर अपने महल के बागीचे में टहल रहा था और उसी समय वजीर के सामने एक बहुत ही भयानक शक्ल का दैत्य या पिशाच उसके सामने आकर खड़ा हो गया उसकी शक्ल ईतनी भयानक थी कि पत्थर भी देख कर पानी हो ...

Read More »

Beas Langar ki Sakhi by Baba Ji

radha soami shabad

*ब्यास लंगर की महत्ता* सतसंगीओ ! डेरा ब्यास में आप सभी ने मास्टर जी के दर्शन तो जरूर करें ही होंगे। एक बार मुझे भी दर्शन करने का मौका मिला। तो मास्टर जी ने डेरे के लंगर और गुरू प्यार से भीगी एक साखी सुनाई। जो इस प्रकार है : ...

Read More »

Aaj ka Ruhani Vichaar read here

all baba ji radha soami

आज का रूहानी विचार हमारी किस्मत में जो लिखा है वह होकर ही रहता है पर अगर कुछ अच्छे कर्म, सुमिरन भजन और मालिक की दया हो तो मालिक कुछ होने वाली घटनाओं को “सूली से सूल (छूल)” कर देते हैं. गुरु हमें यही समझाते हैं कि हमें मालिक की ...

Read More »

Baba ji ne sakhi sunai new satsang ghar ki

July baba ji radha soami satsang Full Satsang (RSSB)

एक जगह नये सत्संग घर के खोदाई की सेवा चल रही थी. जैसे जैसे काम शुरु हूआ कुछ समय बाद जमीन में से सॉप निकलने लगे सेवादार डरने लगे और सेवा छेड़ दी और वहॉ के incharge को inform किया. उस incharge ने ब्यास फोन लगवाई वहॉ से जवाब मिला ...

Read More »

Baba ji ki rehmat apne sewadar jo langar main sewa kr rhi thi

radha soami baba ji with guards

*सतगुर की रहमत* एक बहन किसी डेरे में अपने मुर्शिद के हुक्म अनुसार लंगर की सेवा करती थी। जाणी-जान सतगुरु के हुक्म अनुसार उसकी डेरे में हाजिरी हर रोज जरूरी थी और एक दिन उसका छोटा लड़का उम्र लगभग 7 साल, उसे तेज बुखार हो गया। उस बीबी ने बच्चे ...

Read More »

Satguru ki Rehmat apne sewadar par

rssb

*सतगुर की रहमत* एक बहन किसी डेरे में अपने मुर्शिद के हुक्म अनुसार लंगर की सेवा करती थी। जाणी-जान सतगुरु के हुक्म अनुसार उसकी डेरे में हाजिरी हर रोज जरूरी थी और एक दिन उसका छोटा लड़का उम्र लगभग 7 साल, उसे तेज बुखार हो गया। उस बीबी ने बच्चे ...

Read More »

Baba ji ne batya hamari Zindgi kese hai read here

canada satsang ghar baba ji

बाबा जी कहते है कि, जिंदगी एक खुली किताब के समान है, जिसके पन्ने हर दिन पलट रहे है, हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं जिसमें हम कभी ख़ुशी का आभास करते है, तो कभी गम का..!! ये जो वक़्त है न कभी किसी के लिए रुका है ...

Read More »

Sewa kise kehte hai ?

all baba ji radha soami

सेवा कहते किसे है। हुज़ूर महाराज जी अपने सत्संगों मे समझाया करते थे सेवा मे नम्रता होनी चाहिए आजिजी होनी चाहिए किसी को छोटा न समझे। सेवा बड़े ही प्यार दीनता से करनी चाहिए। बैच लगा कर हम बहुत बड़े सेवा दार नहीं बन जाते है। सेवा तो सतगुरु की ...

Read More »
error: Content is protected !!