Category: Sakhi

Satguru ki Rehmat apne sewadar par

rssb

*सतगुर की रहमत* एक बहन किसी डेरे में अपने मुर्शिद के हुक्म अनुसार लंगर की सेवा करती थी। जाणी-जान सतगुरु के हुक्म अनुसार उसकी डेरे में हाजिरी हर रोज जरूरी थी और एक दिन उसका छोटा लड़का उम्र लगभग 7 साल, उसे तेज बुखार हो गया। उस बीबी ने बच्चे को दवाई देकर, अपनी सासू […]

Baba ji ne batya hamari Zindgi kese hai read here

canada satsang ghar baba ji

बाबा जी कहते है कि, जिंदगी एक खुली किताब के समान है, जिसके पन्ने हर दिन पलट रहे है, हवा चले न चले दिन पलटते रहते हैं जिसमें हम कभी ख़ुशी का आभास करते है, तो कभी गम का..!! ये जो वक़्त है न कभी किसी के लिए रुका है न कभी रुकता है यह […]

Sewa kise kehte hai ?

all baba ji radha soami

सेवा कहते किसे है। हुज़ूर महाराज जी अपने सत्संगों मे समझाया करते थे सेवा मे नम्रता होनी चाहिए आजिजी होनी चाहिए किसी को छोटा न समझे। सेवा बड़े ही प्यार दीनता से करनी चाहिए। बैच लगा कर हम बहुत बड़े सेवा दार नहीं बन जाते है। सेवा तो सतगुरु की खुशिया प्राप्त करने के लिए […]

Sakhi old time ki Baba Sawan Singh ji (Unread Sakhi)

Baba sawan singh ji

यह साखी बडे बाबा सावन सिंह जी की है जिस समय मलाया में लडाई हो रही थी उस समय का वृतांत है। हजूर महाराज सावन सिंह जी डलहौजी में आये हुए थे। सुबह आठ बजे का समय था, एक फौजी डोगरा हजूर जी की कोठी में खड़ा था , बहुत प्रेम से पूछने लगा राधा […]

Sab ko problem rehte hai Bhajan Simran nhi lagta “Sollution”

Mumbai Radha Swami Satsang

हमें शिकायत रहती है कि भजन सिमरन में मन यहाँ वहाँ दौड़ता फिरता है।उसका एक कारण अपने बैठने के आसन से भी है।सत्संग में ये बिलकुल खोल के बताया गया है कि जब आप सिमरन पर बैठो, आपका रोज का स्थान फिक्स हो तो अच्छा है।बिस्तर में बैठ कर आलस ही आनी है। सो जमीन […]

Baba ji ne ek sakhi sunai village ki

all baba ji radha soami

बाबा जीने एक साखी सुनाई एक राजा को पता चला कि गुरु नानक उसके गाँव आने वाले हैं. राजा उनके स्वागत के लिए गाँव के बाहर खड़ा हो गया . और उनको भेंट देने के लिए कीमती जेवर और अन्य सामान साथ में ले गया . जब गुरु नानक पहुँचे तो राजा ने गुरु नानकजी […]

Ruhani Dayari Bhag First

radha soami satsang beas

रूहानी डायरी भाग पहला।। बडे हुजूर ने फरमाया कि मौत दो प्रकार की है | एक सत्संगी की और दूसरी गैर सत्संगी की। गैर सत्संगी दुनियादार की मौत का दृश्य बड़ा भयानक होता है। उधर तो उसकी आत्मा शरीर से उडने को होती है इधर सम्बन्धी लोग रोना पीटना आरम्भ कर देते हैं। जिससे उसकी […]

Radha Soami Satsang Beas (RSSB Satsang) © 2017 RssbSatsang.com
error: Content is protected !!