Home / Satsang / बाबा जी ने परोर सतसंग में फरमाया….

बाबा जी ने परोर सतसंग में फरमाया….

धुन सुनकर मन समझाई
बाबा जी ने सतसंग में फरमाया कि इस जीवन की गाडी की स्टीयरिंग उस मालिक के हाथ मे है जिस प्रकार यदि हमें कहीं जाना हो तो हम बस ,ट्रेन आदि में हम सफर करते हैं तो उस गाडी का स्टीयरिग ब्हील ड्राईवर के हाथ में होता है और बह ड्राईवर उस गाडी को अपनी मरजी से किसी भी दिशा में मोड सकता है क्यों कि स्टीयरिंग उस ड्राईवर के हाथ में है हम उससे बस अरदास कर सकते है कि गाडी को इधर ले चलो पर हम गाडी को लेकर नहीं जा सकते बो ड्राईवर ले कर जा सकता है इसी प्रकार दुनिया की स्टीयरिंग उस मालिक के हाथ में है और बो ही इस दुनिया को चला रहा है हम भी उस मालिक से केवल अरदास ही कर सकते है फिर उसको जो मंजूर होगा बही होगा,इस लिये यदि उस मालिक से मांगने के लायक कुछ है तो वो है परमार्थ और भक्ति हमें उस मालिक के भाणे मे रहना है!
तेरा भाणा मीठा लगे !
फिर बाबा जी ने बरतन का उदाहरण दिया कि खाना बनाने के बरतन मे सिर्फ खाना ही बनाये जाओ और उसको साफ न करो तो उस पर मैल की परत जमनी सुरू हो जाती है और कुछ दिनों बाद बरतन की चमक गायब हो जाती है लेकिन हम जैसे जैसे उस बरतन को साफ करना सुरू कर दें तो कुछ दिनो बाद उसकी चमक बापस आ जाती है उस दिन हमको पता चलता है कि बरतन कोई और चीज है और गंदगी कोई और इसी प्रकार हमारी आत्मा पर करोडों जन्मो की मैल चडी हुई है जैसे जैसे हम भजन सिमरन करेंगे बैसे बैसे आत्मा की चमक बापस आनी सुरू हो जायेगी!
फिर उदाहरण दिया कि ऐक ऐसा व्यक्ति जो सारी उमर सिर्फ गाडी चलाने की किताब ही पढता रहा कभी गाडी नहीं चलाई पर दूसरी तरफ ऐक ऐसा व्यक्ति है जिसने सिर्फ गाडी ही चलाई है कोई किताब नही पढी तो आप किस की गाडी में बैठना पसंद करेंगे इसलिये केवल पढने से या पाठ को सुनने से मुक्ति नही होती जब हम उस जरिया को अमल मे लायेगे भजन बन्दगी में लगेंगे तो उसकी (मालिक)पहचान होगी!

देखो रावण वेदों का टीकाकार था ऐसा नहीं था कि उसके दस सिर थे वल्कि उसमें दस सिरों वाला ग्यान था इतना ग्यानी होने के बाद भी क्या बो अपने मन को काबू कर पाया क्या मुक्ति हासिल कर पाया कहने का तात्पर्य यह है कि सारी उमर केवल पढी मत जाओ नही तो केवल अहंकार हो सकता है परंतु मुक्ति नही अमल करनें में मुक्ति है!
फिर बाबा जी ने बुल्ले साह जी का उदाहरण दिया कि बो जाती के सैयद थे और उनके गुरू साह इनायत राईं जो नाचने गाने बाले होते है बो थे जब बुल्ले साह के घर में बहन की शादी का कायर्कम हुआ तो अपने गुरू को भी शादी में आने की अर्ज की और शादी बाले दिन गुरू शाह इनायत ने खुद ना जाकर अपने ऐक गरीब शिष्य को बहाँ भेज दिया उसके फटे हुये कपडे देख कर बुल्ले साह ने उसको ऐक तरफ बैढा दिया और उससे ठीक से बरताव नही किया,बापिस जाकर जब उसने सब कुछ अपने गुरू को बताया तो गुरू को बहुत दुख हुआ और उनहोने बुल्ले शाह की तरफ से मुँह मोड लिया और जब किसी प्रेमी का गुरू उसकी तरफ से मुँह मोड ले और उसकी रूहानी तरक्की बंद कर दे तो उसकी हालत ऐक पागल की तरह हो जाती है फिर बुल्ले शाह ने अपने गुरू को मनाने के लिये कंजरी के कपडे पहन कर अपने गुरू के सामने नाचे फिर शाह इनायत बोले कि तू बुल्ला है ना तब बुल्ले शाह जी ने बोला कि नहीं मैं तो भुल्ला हूं!
और बाबाजी ने आज हुजूर का हाथी के पांव में सबका पांव वाला भी उदाहरण दिया कि केवल नाम के सिमरन और भजन मे ही दुनिया के सारे पूजा पाठ हो जाते है ! और स्त्री का बह उदाहरण भी दिया कि वो बिंदी को दोनो भौहों के बीच में लगाती हैं और यह सुहागन की निशानी है जब आत्मा परमात्मा से मिलती है तो जन्मो जन्मो से बिछडी हुई आत्मा परमात्मा रूपी पति को पाकर झूम उठती है ! तो हमें भी चाहिये कि हम भी भक्ति कर के अपनी आत्मा का उस परमात्मा की प्राप्ती की पूरी कोशिश करें और यह भी तभी संभव है जब हम करनी का रास्ता अपनायेंगे जब हम उस मालिक कि भक्ति निश्बार्थ भाव से करेंगे तो बह मालिक हमारी भक्ति की लाज जरूर रखेगा!
बाबा जी ने आज 1घंटा 40मि सतसंग किया!
सभी प्यारे सतसंगी भाई बहनों और दोस्तों को हाथ जोड़ कर प्यार भरी _राधास्वामी जी.._

error: Content is protected !!