Baba Gurinder singh ji ke Vachan

बाबा जी के वचन
बाबा जी कहते है ,हमने आपको एक दायरे
के अंदर रखा है ।
जबकि रूहानियत के दायरे में कोई लिमिटेशन
नहीं है ,परमात्मा ने बख्शशिश में कोई कमी
नहीं रखी ।हमें संभाले की जरूररत है ,आपने
ही अपने गिलास को डिजायर से भर रखा है ।
जब तक उसे खाली नहीं करेंगे, मालिक उसे
भरेगा कैसे ?

हमें मालिक से मांगना ही नहीं आता ।
अपनी अरदास में अपनी खविशों की लंबी लिस्ट
रख देते है !जबकि हमें चाहिए की हमें मालिक
से मॉलिक को ही मांगे ,जबकि मालिक ही हमें
मिल जाएगा तो हमें किसी बात की चिंता करने
की जरुरत ही नहीं रहेगी कियोंकि वो हमारा
स्वार्थ भी संवारेगा और परमार्थ भी ।

Updated: August 12, 2017 — 10:56 am
Radha Soami Satsang Beas (RSSB Satsang) © 2019 RssbSatsang.com
error: Content is protected !!